Tuesday, 17 May 2016

डाळियों पर



डाळियों पर
जौंद्याल पड़ग्यन !
बल_ सड़क चौड़ी होणी छ,
कुज्याणी कब__
यन छैळु मिल्लु !
सोचि_ ज्युक्ड़ी खुदेणि छ !! 

... विजय जयाड़ा
( जौंद्याल = बलि देने से पूर्व पशु पर डाले जाने वाले अभिमंत्रित चावल )
 

No comments:

Post a Comment